Latest Online Hindi News

Find all the latest, current & trending news related to business, sports, politics & many more only on Nayaindia ePaper. Read for the Breaking News!


Leave a comment

उत्तर प्रदेश भाजपा में भी हैं संकट

उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी नेताओं की आपसी कलह से परेशान हैं। एक तरफ कई नेता राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार से परेशान हैं तो दूसरी ओर कई नेताओं को स्थानीय स्तर पर घमासान चल रहा है। पिछले दिनों पार्टी के आधा दर्जन से ज्यादा दलित सांसदों ने तेवर दिखाए थे। तब तो उनको समझा बूझा कर चुप करा दिया गया था पर माना जा रहा है कि अंदरखाने उनकी नाराजगी कायम है और वे पार्टी को बड़ा झटका दे सकते हैं। इनमें से कुछ सांसद पाला बदलने की तैयारी भी कर रहे हैं क्योंकि उनको लग रहा है कि शायद अगली बार भाजपा उनको टिकट नहीं देगी।

Uttar Pradesh

इस बीच यह भी खबर है कि भाजपा के कई सांसदों को स्थानीय विधायकों या पार्टी नेताओं की नाराजगी झेलनी पड़ रही है। भाजपा की एक सांसद प्रियंका रावत अपने तीखे तेवरों के लिए मशहूर हैं। खबर है कि उनकी अपने इलाके के विधायकों से नहीं बन रही है। इसी तरह फैजाबाद के सांसद लल्लू सिंह के लिए भी कहा जा रहा है कि उनसे भी पार्टी के विधायक और जिला कमेटी के नेता नाराज चल रहे हैं। भाजपा के एक सांसद वीरेंद्र सिंह हैं उनकी भी शिकायत कई नेताओं ने पार्टी आलाकमान तक पहुंचाई है। भाजपा के एक जानकार नेता का कहना है कि अनेक सांसदों को यह अंदाजा हो गया है कि उनकी टिकट कट सकती है, इसलिए वे अपनी पोजिशनिंग में लगे हैं। भाजपा के कई नेता सपा, बसपा और कांग्रेस के संपर्क में हैं।  Visit @ https://bit.ly/2Otiprd


Leave a comment

मायावती को लड़ना ही अकेला था

मायावती ने चुनाव वाले राज्यों में कांग्रेस से तालमेल नहीं होने का ठीकरा दिग्विजय सिंह पर फोड़ा है। पर असल में दिग्विजय सिंह तो बहाना हैं। मायावती का अकेले लड़ना पहले से तय था। तभी वे तालमेल के लिए ऐसी शर्तें रख रही थीं या इतनी सीटें मांग रही थीं कि तालमेल संभव ही नहीं था। उनके कांग्रेस से तालमेल नहीं करने के पीछे केंद्रीय एजेंसियों के दबाव या पैसे के लेन देन की चर्चाएं अपनी जगह हैं पर राजनीतिक रूप से भी मायावती को यह ज्यादा फायदे का सौदा लग रहा है।

mayawati

असल में वे लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को अपनी ताकत दिखाना चाहती हैं। वे राज्यों में कांग्रेस की हार का कारण बनना चाहती हैं, जैसे कर्नाटक में बनीं। वे बताना चाहती हैं कि कांग्रेस ने उनसे तालमेल नहीं किया तो भाजपा को नहीं हरा पाएगी। इसलिए कांग्रेस के किसी भी प्रस्ताव का इंतजार किए बगैर उन्होंने छत्तीसगढ़ में अजित जोगी पार्टी के साथ तालमेल कर लिया और मध्य प्रदेश में 22 उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी। अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें @ https://bit.ly/2Nm2lC8


Leave a comment

नम अांखों से जननायक को दी भावभीनी श्रद्धाजंलि

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ समेत विभिन्न इलाकों में शुक्रवार को पूर्व प्रधानमंत्री एवं भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धाजंलि देने के लिये लोगों का तांता लगा रहा। देश के लोकप्रिय प्रधानमंत्री के सम्मान में समूचे उत्तर प्रदेश में बैंक,शिक्षण संस्थान और सरकारी दफ्तर बंद रहे वहीं व्यापारियों ने दुकाने बंद रखकर अपने चहेते नेता को अश्रुपूरित नेत्रों से श्रद्धाजंलि अर्पित की। श्री वाजपेयी की लोकप्रियता का अंदाज यूं लगाया जा सकता है कि राज्य के अधिकांश गांव और कस्बों पर भी अजीब सा सन्नाटा पसरा रहा।

Atal Bihari Vajpayee

बाजार, हाट,चौपाल और गलियां सूनी रहीं। इस दरम्यान हर तरफ पूर्व प्रधानमंत्री से जुड़े किस्से चर्चा का विषय बने रहे। नई दिल्ली में श्री वाजपेयी की अंतिम यात्रा शुरू होते ही लोगबाग टेलीविजन चैनलों से चिपक गये जिससे सडकों पर यातायात काफी कम हो गया। कानपुर, देवरिया,इलाहाबाद,वाराणसी,आगरा,इटावा,अलीगढ,बरेली और हाथरस समेत राज्य के तमाम इलाकों में पूर्व प्रधानमंत्री के सम्मान में शोकसभाओं का आयोजन किया गया और उनके चित्र पर माल्यार्पण कर महान नेता को श्रद्धाजंलि अर्पित की गयी। अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें @ https://bit.ly/2vRAKmx


Leave a comment

विकास कार्यों में लापरवाही बर्दाश्त नहीं: योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी में निर्माणाधीन दीनापुर सीवरेंज ट्रीटमेंट प्लान्ट के निर्माण कार्य की धीमी प्रगति पर गहरी नाराजगी जताते हुए गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई के परियोजना प्रबन्धक को कड़ी फटकार लगाई है और साथ ही यह कार्य करा रही कम्पनी के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश दिया है।

Yogi Adityanath

योगी आदित्यनाथ ने शाही नाला के सफाई का काम भी बार-बार समय सीमा बढ़ाये जाने के बावजूद पूरा न होने पर श्रीराम ईपीसी लि0 के विरुद्ध एफआईआर कराये जाने का निर्देश दिया। उन्होंने गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई के परियोजना प्रबन्धक को कड़ी चेतावनी देते हुए उन्हें व्यक्तिगत तौर पर काम में रूचि लेने और संबंधित कम्पनियों से युद्ध स्तर पर अभियान चलाकर कार्य पूरा कराने का निर्देश दिया। अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें । @ https://bit.ly/2Mmn7Su