Latest Online Hindi News

Find all the latest, current & trending news related to business, sports, politics & many more only on Nayaindia ePaper. Read for the Breaking News!


Leave a comment

मायावती को लड़ना ही अकेला था

मायावती ने चुनाव वाले राज्यों में कांग्रेस से तालमेल नहीं होने का ठीकरा दिग्विजय सिंह पर फोड़ा है। पर असल में दिग्विजय सिंह तो बहाना हैं। मायावती का अकेले लड़ना पहले से तय था। तभी वे तालमेल के लिए ऐसी शर्तें रख रही थीं या इतनी सीटें मांग रही थीं कि तालमेल संभव ही नहीं था। उनके कांग्रेस से तालमेल नहीं करने के पीछे केंद्रीय एजेंसियों के दबाव या पैसे के लेन देन की चर्चाएं अपनी जगह हैं पर राजनीतिक रूप से भी मायावती को यह ज्यादा फायदे का सौदा लग रहा है।

mayawati

असल में वे लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को अपनी ताकत दिखाना चाहती हैं। वे राज्यों में कांग्रेस की हार का कारण बनना चाहती हैं, जैसे कर्नाटक में बनीं। वे बताना चाहती हैं कि कांग्रेस ने उनसे तालमेल नहीं किया तो भाजपा को नहीं हरा पाएगी। इसलिए कांग्रेस के किसी भी प्रस्ताव का इंतजार किए बगैर उन्होंने छत्तीसगढ़ में अजित जोगी पार्टी के साथ तालमेल कर लिया और मध्य प्रदेश में 22 उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी। अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें @ https://bit.ly/2Nm2lC8